जिप्सम

राज्‍य में जिप्‍सम वितरण कार्यक्रम को जन कल्‍याण पोर्टल से जोडने के क्रम में –
वर्ष 2020-21 हेतु जिप्‍सम आपूर्ति व्‍यवस्‍था के प्रक्रियात्‍मक दिशा-निर्देश
1 योजना का नाम – जिप्‍सम वितरण
(I)  राष्‍ट्रीय कृषि विकाय योजना – भूमि सुधार कार्यक्रम
(II)  राष्‍ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन – तिलहन, दलहन एवं गेहूँ फसलों में पोषक तत्‍वों के रूप
2 योजना के प्रशासनिक विभाग का नाम – कृषि विभाग
3 योजना में राज्‍य अंश /केन्‍द्रीय अंश का प्रति‍शत – राज्‍य अंश – 40 प्रतिशत केन्‍द्रीय अंश – 60 प्रतिशत
4 योजना का प्रकार (नकद/गैर नकद) – गैर नकद
5 योजना का संक्षिप्‍त विवरण –
     जिप्‍सम एक प्राकृतिक द्वितीयक खनिज है, इसमें 16 से 19 प्रतिशत कैल्शियम एवं 13 से 16 प्रति‍शत सल्‍फर होता है । कृषि में यह क्षारीय भूमि के सुधार तथा पोषक तत्‍वों की उपलब्‍धता के कारण उपयोगी हैा राष्‍ट्रीय
कृषि विकास योजना में इसका उपयोग क्षारीय भूमि सुधार एवं राष्‍ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के अन्‍तर्गत पोषक तत्‍व के रूप में तिलहनी, दलहनी एवं गेहॅू फसलों में उपयोग किया जाता है ।
भारत सरकार के दिशा-निर्देशों अनुसार वर्ष 2020-21 में सभी योजनाओं में जिप्‍सम , जिलेवार जिप्‍सम, की कुल दर का 50 प्रतिशत अनुदान पर दिया जा रहा है।
v    क्षारीय भूमि सुधारक के रूप में – राष्‍ट्रीय कृषि विकास योजना में कृषकों को जिप्‍सम, खेत की मिट्टी की जॉच रिपोर्ट में जिप्‍सम की आवश्‍यक मात्रा (जी.आर. वैल्‍यू) के आधार पर दिया जाता है। किसानों को अधिकतम 2 हैक्‍टर तक जिप्‍सम पर अनुदान देय है। प्रति हैक्‍टर जिप्‍सम सिफारिश मात्रा के अनुसार अधिकतम 5 मै. टन जिप्‍सम प्रति हैक्‍टर अनुदान पर देय है ।
v पोषक तत्‍व के रूप में – तिलहनी, दलहनी एवं गेहॅू फसलों में पोषक तत्‍व के रूप में 250 किलो प्रति हैक्‍टर (10-15 प्रतिशत तक उपज में वृद्धि) की दर से जिप्‍सम का उपयोग किया जाता है । तिलहनी, दलहनी एवं गेहॅू फसलों में जिप्‍सम पर 250 किलो प्रति हैक्‍टर जिलेवार अनुमोदित दर के 50 प्रतिशत (अधिकतम रू. 750 प्रति हैक्‍टर) प्रति कृषक अधिकतम 2 हैक्‍टर तक अनुदान देय है ।
 
 
 
जिप्‍सम
·         जिप्‍सम 16 से 19 प्रतिशत कैल्शियम एवं 13 से 16 प्रतिशत सल्‍फर होता है।
·           इसका उपयोग क्षारीय भूमि सुधार हेतु मृदा सुधारक के रूप में खेत की मिट्टी की जॉच रिपोर्ट में जिप्‍सम की आवश्‍यक मात्रा (जी.आर.वैल्‍यू) के आधार पर किया जाता है ।
·           बुवाई से पहले या बुवाई के समय खेत में जिप्‍सम डालने से तिलहन में तेल की मात्रा में एवं दलहन में प्रोटीन की मात्रा में वृद्धि होती है ।
·           दाने सुडोल व चमकदार बनते है ।
अनुदान

·        जिप्‍सम पर जिलेवार निर्धारित जिप्‍सम की कुल दर का 50 प्रतिशत अनुदान अधिकतम 2 हैक्‍टेयर क्षेत्र प्रति कृषक को देय है ।
पात्रता

·          राज्‍य के समस्‍त किसान ।
आवेदन प्रक्रिया
·           पोषक तत्‍वों के रूप में जिप्‍सम की मांग हेतु विभाग द्वारा निर्धारित प्रार्थना पत्र में आवेदन करें ।
·           क्षारीय भूमि सुधार हेतु मिट्टी परीक्षण रिपोर्ट के अनुसार जिप्‍सम की आवश्‍यक मात्रा (जी.आर.वैल्‍यू) भरकर आवेदन करे ।
प्राप्ति स्‍त्रोत
·           अजमेर, बीकानेर, जोधपुर एवं पाली जिले में मैसर्स एग्रोकिंग पेस्‍टीसाइडस प्रा.लि. जयपुर द्वारा अधिकृत विक्रेता एवं राज्‍य के शेष जिलो में मैसर्स रॉयल केमिकल एण्‍ड फर्टीलाइजर्स, जयपुर द्वारा अधिकृत विक्रेता से जिप्‍सम प्राप्‍त की जा सकती है । अधिक जानकारी के लिए सम्‍बन्धित जिले के उप निदेशक कृषि (वि.) जिला परिषद से सम्‍पर्क करें ।
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जिलेवार एवं फर्मवार जिप्‍सम की अनुमोदित दरें वर्ष 2020-21
 


क्र.सं.


जिले का नाम


अनुमोदित दर (रू.प्रति टन)


अनुमोदित फर्म का नाम




1


अजमेर


2592.00


एग्रोकिंग पेस्‍टीसाइड प्रा.लि., जयपुर




2


बीकानेर


2161.00




3


जोधपुर


2549.00




4


पाली


2897.00




5


जयपुर


2792.00


रॉयल केमिकल्‍स एण्‍ड फर्टिलाइजर्स, जयपुर




6


दौसा


2920.00




7


टोंक


2853.00




8


सीकर


2545.00




9


झूंझुनू


2650.00




10


नागौर


2311.00




11


अलवर


3000.00




12


भरतपुर


3300.00




13


धौलपुर


3445.00




14


सवाई माधोपुर


3190.00




15


करौली


3180.00




16


चूरू


2650.00




17


जैसलमेर


2409.00




18


गंगानगर


2300.00




19


हनुमानगढ


2472.00




20


बाडमेर


2850.00




21


जालौर


2900.00




22


सिरोही


2750.00




23


कोटा


2995.00




24


बारां


2950.00




25


बूंदी


2950.00




26


झालावाड


3350.00




27


बांसवाडा


3340.00




28


डूंगरपुर


3340.00




29


उदयपुर


3110.00




30


प्रतापगढ


2950.00




31


भीलवाडा


2750.00




32


चित्‍तौडगढ


2960.00




33


राजसमंद


3000.00


कृषि
विभाग से अनुदान पर जिप्‍सम प्राप्ति हेतु प्रार्थना-पत्र वर्ष 2020-21
(कार्यालय
उपयोग हेतु)
सेवामें,  
      उप/सहायक निदेशक कृषि (वि./जि.प.)
      जिला .......................
प्रार्थना-पत्र
द्वारा सहायक कृषि अधिकारी/कृषि पर्यवेक्षक
निवेदन है कि मै कृषि विभाग द्वारा संचालित
योजनान्‍तर्गत जिप्‍सम लेना चाहता हॅू , कृपया मुझे नियमानुसार अनुदान स्‍वीकृत
करने की कृपा करें । प्रार्थी का पूर्ण विवरण निम्‍न प्रकार है –
1 नाम श्री
......................पुत्र/पुत्री/पत्‍नी श्री ..................जाति
............
2 मै ग्राम...................... पं.सं.
............ तहसील............. जिला..........का रहने वाला/वाली हॅू।
3 मै .......................... सामान्‍य/ लघु/
सीमान्‍त/अनु.जा./अ.ज.जा./महिला कृषक श्रेणी से हॅू ।
4 मेरे
पास सिंचाई का साधन ............. कुओ/नहर/नलकूप/तालाब/लिपट सिंचाई/कोई सिंचाई   साधन नहीं है।
5 मेरे खेत की मिट्टी का प्रकार
.............बलुई/दोमट/बलुई दोमट/चिकनी है।
6 मिट्टी का पी.एच. ..............विघुत
चालकता............ (जी.आर.).........(क्षारीय भूमि सुधार हेतु)
कृषक
द्वारा घोषणा
मै शपथ-पूर्वक घोषणा
करता हॅू कि:-
1 मैं क्षारीय भूमि सुधार/तिलहनी/दलहनी/गेहॅू फसल
हेतु प्राप्‍त जिप्‍सम का उपयोग करूंगा ।
2 वर्ष 2019-20 में जिप्‍सम अनुदान पर उक्‍त
योजनाओं में प्राप्‍त नहीं किया है।
3 अनुदानित जिप्‍सम को किसी प्रकार खुर्द-बुर्द
नहीं करूंगा/करूंगी।
4 मैने जिस श्रेणी व जाति के लिये आवेदन किया है,
मै उसी से सम्‍बद्ध हॅू ।
    उपरोक्‍त
शर्तो की अवहेलना होने पर विभाग मुझसे अनुदान की सम्‍पूर्ण राशि वसूल करने तथा अन्‍य
कोई वैधानिक कार्यवाही करने के लिये स्‍वतंत्र होगा ।
 
        हस्‍ताक्षर                                    (कृषक हस्‍ताक्षर/अगूंठा निशान)
आवेदन प्राप्‍तकर्ता
(नाम सहित)                           कृषक का नाम .................
                                                     दूरभाष नं0 –
 
जिप्‍सम
प्राप्ति एवं सत्‍यापन
मैं (श्री /श्रीमती) ..................
पुत्र/पत्‍नी श्री ................ जिप्‍सम आपूर्ति फर्म से जिप्‍सम
........................ बैग/टन राशि रूपयें ............ (अंको में)
..................... (शब्‍दो में) प्राप्‍त किया है । इस जिप्‍सम का मेरे द्वारा
उपयोग भूमि सुधार/तिलहन/दलहन/गेहॅू फसल में किया गया/करूंगा/करूंगी।
 
सत्‍यापनकर्ता हस्‍ताक्षर                                           प्राप्तिकर्ता हस्‍ताक्षर
कृ.प./स.कृ.अ.
..............................................................................................................................................................

आवेदन प्राप्ति रसीद
मैने किसान (श्री/श्रीमती) ..........................
पुत्र/पत्नि श्री .............. का जिप्‍सम प्राप्ति हेतु आवेदन पत्र जिप्‍सम
आपूर्ति फर्म से .......... बैग/टन क्षारीय भूमि सुधार/तिलहन/दलहन/गेहॅू फसल में
उपयोग हेतु प्रार्थना पत्र दिनांक ............ को प्राप्‍त किया ।
 
   हस्‍ताक्षर आवेदन प्राप्‍तकर्ता
   (कृ.प/स.कृ.अ.मय नाम एवं दूरभाष नं0)