file

जीवन परिचय

प्रो. सांवरलाल जाट

माननीय अध्‍यक्ष, राजस्‍थान किसान आयोग, जयपुर

 

राजस्‍थान के किसान नेता प्रो. सांवरलाल जाट को राजस्‍थान किसान आयोग का अध्‍यक्ष मनोनीत किया है। प्रो. सांवरलाल जाट का जन्‍म अजमेर जिले के गोपालपुरा ग्राम में किसान परिवार में दिनॉंक 1 जनवरी, 1955 को हुआ। आपने विजयनगर के श्री प्रज्ञा कॉलेज, विजय नगर से वाणिज्‍य में स्‍नातक की डिग्री प्राप्‍त की। तत्‍पश्‍चात राजकीय महाविद्यालय, अजमेर से एम. कॉम एवं राजस्‍थान विश्‍वविद्यालय, जयपुर से पी.एच.डी. की उपाधि प्राप्‍त की एवं राजस्‍थान यूनिवर्सिटी, जयपुर में अध्‍यापन प्रारंभ किया।

 

शिक्षा के क्षेत्र में भी प्रो. जाट द्वारा अमूल्‍य योगदान दिया गया है। इनके द्वारा वित्‍तीय प्रबंधन, सामाजिक अकाउंटिगं एवं ऑडिट, राजकीय ऑडिट आदि विषयों पर अनेक पुस्‍तकें लिखी गई हैं। इसके अतिरिक्‍त कई राष्‍ट्रीय सेमिनारों का आयोजन आपके द्वारा करवाया गया है। इनके शोध पत्र कई राष्‍ट्रीय एवं अंतराष्‍ट्रीय ख्‍यातिप्राप्‍त जर्नल एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं।

 

अध्‍यापन काल के दौरान भी श्री जाट किसानों एवं खेती से जुडे रहे एवं समाजसेवी एवं राजनेता के रूप में क्षेत्र के लोगों की समस्‍याओं के निवारण हेतु सदैव कार्य करते रहे हैं।

 

वर्ष 1990 में प्रो. जाट राजस्‍थान विधानसभा के चुनाव में भिनाय विधानसभा सीट से विजय प्राप्‍त कर विधायक बने। इसके बाद वर्ष 1993 (दसवीं विधान सभा), 1998 (ग्यारहवीं विधान सभा) एवं 2003 (बारहवीं विधान सभा) में भी इसी सीट से जनता एवं किसानों का विधानसभा में प्रतिनिधित्‍व किया। नवीं विधानसभा में विधायक रहते हुए श्री जाट वर्ष 1990 से 1992 तक राजस्‍थान विधानसभा की आश्‍वासन समिति के अध्‍यक्ष एवं जनलेखा समिति के सदस्‍य भी  रहे। ग्‍याहरवीं विधानसभा में वर्ष 1999 से 2003 तक अधीनस्‍थ विधान समिति एवं पुस्‍तकालय समिति के अध्‍यक्ष रहे।

 

वर्ष 1998 से 2003 तक प्रो. जाट भारतीय जनता पार्टी, राजस्‍थान के उपाध्‍यक्ष रहे। श्री जाट वर्ष 2009 से भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा, राजस्‍थान के अध्‍यक्ष भी हैं।

 

प्रो. जाट 13 दिसम्बर, 1993 से 30 नवम्बर, 1998 तक  भैरोंसिंह शेखावत मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री, सहायता एवं पुनर्वास विभाग (स्वतंत्र प्रभार) रहे हैं। वसुन्धरा राजे सरकार में 9 दिसम्बर, 2003 को सिंचाई एवं इंदिरा गांधी नहर परियोजना मंत्री बनाए गए। उन्हें 31 मई, 2004 को जन-स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, भू-जल विभाग तथा सिंचित क्षेत्र विकास विभाग का दायित्व भी सौंपा गया। इस कार्यकाल में प्रो0 जाट की अथक प्रयासों से लाखों दूरदराज के गॉवों को पेयजल सुविधा उपलब्‍ध हो पाई साथ ही 7.9 लाख हैक्‍टेयर सिंचित कृषि भूमि उपलब्‍ध हुई।

 

प्रो. सांवर लाल जाट 14वीं राजस्थान विधान सभा में भी नसीराबाद, अजमेर क्षेत्र से विधायक चुने गये हैं। उन्हें वसुन्धरा राजे मंत्रिमण्डल में 20 दिसम्बर, 2013 को मंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। श्री जाट मई 2014 के लोकसभा चुनाव में अजमेर सीट से सांसद चुने गये। दिनॉंक 9 नवम्‍बर, 2014 को श्री जाट को केन्‍द्रीय मंत्रीमंडल में राज्‍य मंत्रीजल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण बनाया गया।

 

प्रो. जाट द्वारा किसानों की समस्‍याओं के निवारण हेतु वर्ष 1990 में ग्रामीण शोध एवं विकास परिषद्, राजस्थान की स्‍थापना की गई जिसके वे वर्तमान में भी अध्यक्ष हैं। इस परिषद की स्‍थापना का उददेश्‍य किसानों एवं निर्धन वर्ग की समस्‍याओं के निवारण एवं किसान वर्ग के विकास के लिए गॉवों में विभिन्‍न कार्यक्रम आयोजित कर जागरूकता बढाना है।